रविवार, 23 अक्तूबर 2011

आखो का सच :बोलते - बोलते

इतना जीवन नहीं देखा मैंने
अब तक
शब्द और आखो में
जहा खुल जाती है सभी परीधिया
शब्द बोल जाते है अपनी बात
मानने न मानने  की दशा  में

सच होता है वह प्रतिऊतर
छंद सा छेड़ जाते है स्वर
और गीत लयबद्ध हो आखो से उतर आता है
यह देख मै भूल जाती जीवन की जटिलताये
तुम्हारी भंगिमा सच लगती
झूठे लगती अपनी बाते

सच में बोलती आखो और कुछ कहते शब्दों का
अपना अलग वर्ताव होता है
जो नहीं रहने देता मन को मन जैसा
वह रोज देखना चाहता , बोलना चाहता और सुनना चाहता है

आज सच लगती है वह बात जो सुना मैंने खंजन पक्षी के बारे में
अब देख लिया उस पक्षी को
अब देख लिया सब कुछ कह जाते शब्दों को
बोल ऐसे ही होते है
अनूठापन लिए खुद का
और जीती है आखे ऐसे ही
बोलते- बोलते !!!

20 टिप्‍पणियां:

  1. सच में बोलती आखो और कुछ कहते शब्दों का
    अपना अलग वर्ताव होता है
    जो नहीं रहने देता मन को मन जैसा
    वह रोज देखना चाहता , बोलना चाहता और सुनना चाहता है

    अच्छी हैं!!

    उत्तर देंहटाएं
  2. दीपावली की हार्दिक शुभ कामनाएं !
    लेखन जगत में स्वागत है !

    उत्तर देंहटाएं
  3. mujhe tumhari barish wali kavita dekhni h, jnha ek yuvti, ghar ke sahan me, akeli khdi, barish dekhti, kuch besudh se khyalon me dub jati h, vo kavita tumne likhi thi, blog pr dikhao, pls, shivanjali

    उत्तर देंहटाएं
  4. shivanjuli, tum bahut achcha likh leti ho, khaskr tumhari kavita, mujhse lakh guna paripakv h, mai abi tk, school-days ki kavita me hi, thahri hu

    उत्तर देंहटाएं
  5. kl bahut barish huyi, itni jyada barish, vo bhi ghirti sanjh me, drati h

    उत्तर देंहटाएं
  6. nynon ke vartalap, ka alap, jb bn jaye mn ka jap, shayad ynhi kah rahi h, aap

    उत्तर देंहटाएं
  7. kisi bhi kavita ko smjhne ke liye, sirf dimag hi nhi mn bhi chahiye, kyonki kavitayen hmesha dil se hi likhi jati h

    उत्तर देंहटाएं
  8. shivanjali, tumse likhna sikh rahi hu, kavita, sach kahti hu, jhuth nhi h, abhi tk jolikha, vo mahj tukbandi h

    उत्तर देंहटाएं
  9. aur kuchh nya likho, shivanjali
    mujhe tumhari aur bhi kavitayen dekhni h

    उत्तर देंहटाएं
  10. ye shivanjali, teri kavita ko aaj samajh pa rahi hu
    ye tumne bahut hi perfect poetry likhi h, sach

    उत्तर देंहटाएं
  11. ye jo upr comment aya h, ye to maine nhi ,teri saheli ne likhya h, shivanjali, isme vnhi likha h, jo vo tujhe kahti h

    उत्तर देंहटाएं
  12. shivanjali, ye tumhari kavita, usi str ki h, jaisa ki mradula shukla likhti h, sach teri ye kavita bahut pasand h
    sach ye h, ki aajtk, na to, maine teri kavita puri padhi h, na hi dekhi h
    bs, tumhara nam dikha, aur tip di hu
    kintu, tumne ydi us khanjan-nyana ko knhi dekha h, to mujhe uska pta dena, please, aur ijjajat bhi

    उत्तर देंहटाएं
  13. aap jo bhi likhti , ya kahti hai, vo sab bahut achcha h, bahut sargarbhit h, apko lekhan ke prayas ki shubh-kamnaye, bhavishya me apki lekhki jyada urjavan hokr nvsrajan kregi, ynhi asha h, shubh shivanjali.......

    उत्तर देंहटाएं